BSP अध्यक्ष मायावती ने मंगलवार को कहा की दलितों पर अत्याचार के खिलाफ संघर्ष को तैयार रहें कार्यकर्ता

BSP अध्यक्ष मायावती ने मंगलवार को कहा की दलितों पर अत्याचार के खिलाफ संघर्ष को तैयार रहें कार्यकर्ताBSP अध्यक्ष मायावती ने मंगलवार को कहा की दलितों पर अत्याचार के खिलाफ संघर्ष को तैयार रहें कार्यकर्ता

गाजियाबाद/मेरठ : बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की अध्यक्ष मायावती ने मंगलवार को कार्यकर्ताओं को दलितों के खिलाफ संघर्ष के लिए तैयार रहने को कहा। जातीय हिंसा में झुलसे सहारनपुर के शब्बीरपुर गांव जाते समय वह मेरठ में कुछ ही मिनट के लिए रुकीं। उन्होंने कहा कि यह समय स्वागत का नहीं, संघर्ष का है। (17ः16) इससे पहले, दिल्ली से गाड़ियों के काफिले के साथ निकलीं मायावती गाजियाबाद होते हुए दोपहर लगभग 12 बजे परतापुरत तिराहे पर पहुंचीं। गाजियाबाद में यूपी गेट पर मायावती का समर्थकों ने फूलों से स्वागत किया। मायावती ने कार्यकर्ताओं से कहा कि बसपा को संघर्ष के लिए तैयार रहना होगा। खड़ौली में कार्यकर्ताओं ने उनका स्वागत किया। वहां भी मायावती ने दलितों के लिए संघर्ष के लिए आह्वान किया और रवाना हो गईं। कार्यकर्ताओं के जोश को देख मायावती उत्साहित नजर आईं। सहारनपुर के लिए निकलने से पहले नई दिल्ली में बसपा अध्यक्ष मायावती मीडिया से मुखातिब हुईं। उन्होंने कहा, मुझे सहारनपुर के अधिकारियों ने हैलीपेड की सुविधा नहीं दी। उन्होंने कहा, मेरी पार्टी के लोग हैलीपैड की सुविधा के लिए डीएम और एसएसपी से मिले थे। अधिकारियों ने हैलीपैड की परमिशन नहीं दी। इसी कारण मुझे सड़क मार्ग से सहारनपुर जाना पड़ रहा है। इसकी जिम्मेदारी सरकार की है। सरकार की जिम्मेदारी तब तक है, जब तक मैं वापस दिल्ली न पहुंच जाऊं। मायावती ने कहा, सड़क मार्ग से जाते समय यदि मुझे कुछ हुआ तो इसकी जिम्मेदार भाजपा होगी। मायावती ने कहा कि सहारनपुर में हुई घटना दर्दनाक है। उप्र में भाजपा की जातिवादी सरकार है। योगी की सरकार पक्षपात कर रही है, सहारनपुर की घटना पक्षपात की वजह से हुई है।

  Similar Posts

Share it
Top