सहारनपुर सपा की कमान शायान को सौंपने का बुना जा रहा है ताना-बाना

सहारनपुर सपा की कमान शायान को सौंपने का बुना जा रहा है ताना-बाना

सहारनपुर : उत्तर प्रदेश करारी हार के बाद यूं तो समाजवादी पार्टी का शीर्ष नेतृत्व चुनाव में मिली पराजय के कारणों की समीक्षा करने की तैय्यारी कर रहा हैं, जनपद में अभी से पार्टी का जिलाध्यक्ष बदलने की मुहिम सपा के कुछ निष्ठावान कार्यकर्ताओं ने शुरू कर दी है। ऐसे में यह चर्चा गर्म है विपक्ष में आने के बाद सपा नेतृत्व को सहारनपुर में किसी युवा मुस्लिम चेहरे को जिलाध्यक्ष की कमान सौपीं जानी चहिए ताकि जिले में समाजवाद एंव समाजवादी पार्टी जिंदा रह सके। जिले की सात विधानसभ सीटों में से सपा को केवल एक ही सीट मिल पाई है, जबकि उसके सहयोगी कांग्रेस को यहां दो सीटों पर जीत हासिल हुई है। पार्टी से जुडे सूत्र बताते हैं कि मौजूदा जिलाध्यक्ष जगपाल दास गुर्ज्जर समाजवादी पार्टी को अपने गुर्ज्जर समाज का वोट दिलाने में पूरी तरह से नाकाम रहें रहें। सपा के संजय गर्ग ने महानगर सीट पर हालांकि जीत दर्ज की है। लेकिन इस सीट पर गुर्ज्जर मतदाताओं की संख्या काफी कम हैं, इस लिए यहां की जीत में जिलाध्यक्ष का कोई श्रेय शामिल नही होता। सपा के कई बडे नेताओं का कहना है कि जिलाध्यक्ष जगपाल दास गुर्ज्जर ने अपना पुरा समय चुनाव में देवबंद विधानसभा क्षेत्र में पार्टी प्रत्याशी माविया अली के प्रचार में लगाया, परन्तु वह हार गये। सपा से जुडे पुख्ता सूत्र बताते हैं कि जिले के कई कद्दावर नेता शीघ्र ही लखनऊ जाकर पूर्व कैबिनेट मंत्री काजी रशीद मसूद के पौत्र शायान मसूद को जिलाध्यक्ष बनाने की मांग सपा के शीर्ष नेतृत्व से करेंगें। अगर तेज तर्रार छवि के हाथों मंें समाजवादी पार्टी की बागडोर आती हैं तो माना जा रहा है कि वह अपने जुझारू व्यक्तिव के दम पर पार्टी के बेस वोट को सपा के साथ बांधे रखने में ज्यादा कामयाब रह सकते हैं। ऐसे में देखना यह है कि विपक्ष में रहकर हमेशा से संघर्ष के दम पूनः सत्ता में वापसी की नीति बनाने वाला सपा का शीर्ष नेतृत्व क्या फैसला लेता है।

  Similar Posts

Share it
Top