सहारनपुर: एकलयुगी भाई ने आन की खातिर भाई को उतारा मौत के घाट

सहारनपुर: एकलयुगी भाई ने आन की खातिर भाई को उतारा मौत के घाटएकलयुगी भाई ने आन की खातिर भाई को उतारा मौत के घाट

सहारनपुर : कलयुगी भाई ने ही आन की खातिर सगी मां के जाये को फावडे से काटकर मौत के घाट उतार दिया। पुलिस ने हत्यारोपी को मात्र 28 घंटे के अंदर गिरफ्तार कर हत्या में फावडा भी बरामद कर लिया है। हत्याकांड का खुलासा करने वाली टीम की पीठ थपथपाते हुए डीआईजी 12 हजार का पुरस्कार देने की घोषणा की।विदित हो कि थाना फतेहपुर क्षेत्र के अंतर्गत गांव दतौली मुगल के जंगल में एक तीस वर्षीय युवक की लाश पडी मिली थी। सूचना पर पहुंची क्षेत्रीय पुलिस ने मौके पर पहुंचकर शव की शिनाख्त कराने की प्रयास किया तो इसी दौरान उसकी पहचान अजीत उर्फ चुन्नू पुत्र स्वर्गीय सतपाल ंिसह निवासी बेहडा कला थाना फतेहपुर के रूप में हुई। मृतक अजीत के भाई अमित उर्फ मोनू ने थाना फतेहपुर पर हत्या आशंका व्यक्त करते हुए अज्ञात बदमाशों के खिलाफ 302 एवं धारा 201 के अंतर्गत मुकमदा पंजीकृत कराया था। इस सनसनी खेज हत्याकांड का खुलासा करने के लिये वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एससी दुबे ने एसपी देहात विद्या सागर मिश्र के निर्देशन में पुलिस उपाधीक्षक सदर ब्र्रजेश कुमार के नेतृत्व में थाना फतेहपुर पुलिस एवं क्र्राईम ब्रांच की संयुक्त टीम गठित कर हत्या का खुलासा करने के निर्देश दिये थे। मात्र 28 घंटे बाद ही थाना फतेहपुर पुलिस व क्राईम ब्रांच की स्वाट टीम ने अजीत उर्फ चुन्नू की हत्या के आरोप में उसके सगे भाई अमित उर्फ मोनू को गिरफतार कर लिया जबकि इसका साथी तेग सिंह उर्फ लीलू फरार हो गया। गिरफतार किये गये अमित उर्फ मोनू ने पूछताछ के दौरान पुलिस को बताया कि अजीत उर्फ चुन्नू काफी समय से किन्नरों के साथ रह रहा था। जिसे अमित एवं उसके परिजनों ने कई बार समझाया गया कि किन्नरों के साथ न रहे इससे समाज मे हमारी बेज्जती हो रही है। बार-बार समझाने पर भी अजीत नही माना तो इससे खफा होकर रात्रि में घर ही सोते वक्त अमित ने फावडे से अजीत के सिर पर प्रहार कर उसकी हत्या कर दी तथा शव को मोटरसाईकिल से अपने ताऊ के लडके तेग सिंह उर्फ लीलू की मदद से दतौली के जंगल मे छुपाने की नीयत से फैंक दिया। इस हत्याकांड का खुलासा करने वाली टीम में एसओ बडगांव भूपेंद्र सिंह, एसआई भगवत सिंह, आरक्षी संदीप भाटी, अश्वनी, जगपाल राणा, एलआईयू के उपनिरीक्षक, आरक्षी कुणाल मलिक, क्राईम ब्रांच के मोहित कुमार वअरूण कुमार मौजूद रहे। इस पुलिस टीम को डीआईजी जेके शाही ने 12 हजार रूपये का पुरस्कार देने की घोषणा की।

  Similar Posts

Share it
Top