Saharanpur City Hindi News|Saharanpur Sahar Hindi Today News| सहारनपुर सियासत के पेंच में फंसी हुई है सड़क दूधली में दलित महापुरूषों की शोभायात्रा, मुकदमे में नामजद भाजपाई रहे भूमिगत

Saharanpur City Hindi News|Saharanpur Sahar Hindi Today News|  सहारनपुर सियासत के पेंच में फंसी हुई है सड़क दूधली में दलित महापुरूषों की शोभायात्रा, मुकदमे में नामजद भाजपाई रहे भूमिगतसहारनपुर सड़क दूधली हिंदी न्यूज़

सपा का चार सदस्य जांच दल सड़क दूधली जाने से रोका.......
सहारनपुर : चाक चौबन्द सुरक्षा के बीच गांव सडक दुधली में तनाव पूर्ण शांति बनी हुई है। पुलिस एंव प्रशासनिक अधिकारी गांव में रात दिन रह कर कैम्प कर रहे हैं। उधर सडक दुधली को प्रकरण को लेकर सियासी दलो ने वोट की सियासत शुरू करते हुए आम सहमति के आधार पर डॉ. भीम राव अम्बेडकर की शोभा यात्रा निकालने की वकालत करनी शुरू कर दी है। यह पहल उस खेमे की ओर से हुई हैं, जिसके नेताओं पर विभिन्न गांवों में श्री गुरू रविदास एंव डॉ. अम्बेडकर की शोभा यात्राओ के आयोजनो में बाधा उत्पन्न करनें के आरोप लगते रहें है।सडक दुधली में डॉ. भीमराव अम्बेडकर तथा श्री गुरू रविदास की शोभा यात्रा निकालने का विरोध गांव के लोगों द्वारा नही बल्कि सियासी दलों के अलम्बरदारो की ओर अपने चंद समर्थको बहकाकर किया जाता है। सडक दुधली में इससे पूर्व भी दलितो द्वारा गुरू रविदास की शोभा यात्रा निकाले के दौरान स्थिति बिगड गई थी। उस दौरान पूर्व विधायक इमरान मसूद की ओर से शोभा यात्रा का विरोध करते हुए दलितो के खिलाफ मुकदमे दर्ज कराये गये थे। इस बार भाजपा के क्षेत्रीय सांसद राघवलखन पाल शर्मा एंव कई अन्य भाजपा के वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी में जिस प्रकार से वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक लव कुमार के आवास पर प्रदर्शन व तोडफोड की गई वह पूरी तरह से लोकतंत्र के नाम पर आतंक फैलाने जैसा ही कहा जा सकता है। इस घटना से साफ हो गया है कि मौजूदा समय में भाजपा के लोग पुलिस एंव प्रशासनिक अफसरों को पुरी तरह से दबाव में लेने का काम कर रहें है। इसके साथ ही अब समाजवादी पार्टी भी खुलकर सडक दुधली प्रकरण में कुद पडी है। प्रदेश के मुख्यमंत्री की ओर अभी तक इस प्रकरण को लेकर कोई अधिकारिक प्रति क्रिया नही दी गई है। जबकि समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय प्रमुख तथा पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने पार्टी का एक चार सदस्यीय जांच दल सडक दुधली भेजा,परन्तु प्रशासन ने इस जांच दल को सडक दुधली जाने की अनुमति नही दी। इस पर सपा जांच दल के पूर्व मंत्री महबूब अली, पूर्व विधायक मूलचन्द चौहान, विधायक गुलाम मोहम्मद एंव पूर्व मंत्री मनोज पारस के साथ ही नगर विधायक संजय गर्ग, एम.एल.सी उमर अली खान, जिला पंचायत के पूर्व चेयर मैन चौ. तेज सिंह समाजवादी पार्टी सहकारिता प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष चौ. प्रीतम सिंह गुर्जर, जिलाध्यक्ष जगपाल दास तथा फैसल सलमानी के अलावा कई सपाईयों ने पीडब्लुडी गेस्ट हाऊस पर ही धरना देना शुरू कर दिया।
उधर कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष एंव पूर्व विधायक इमरान मसूद तथा सहारनपुर देहात के विधायक मसूद अख्तर ने प्रैस वार्ता कर सडक दुधली में आम सहमति से डॉ. भीमराव अम्बेडकर की शोभा यात्रा निकालने की वकालत की है। जबकि घटना वाले दिन कांग्रेस के इन दोनो ही नेताओं अपने फोन तक रिसीव नही किये थे। इस सबके चलते वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के आवास पर प्रदर्शन करने एंव तोडफोड करने वाले भाजपाई पर जो मुकदमे कायम हुए उसके कारण ज्यादातर भाजपा नेता आज भूमिगत रहें। साथ ही श्री गुरू रविदास महासभा के खुद को प्रदेश अध्यक्ष बता कर भाजपा सरकार में अवैध कालोनियों का कारोबार करने वाले अशोक भारती तथा उनके अन्य हुडदंगी साथी भी अपने ठिकानो से गायब रहें। लेकिन सूत्र बताते हैं कि पुलिस प्रशासन की ओर से अभी जिले के कमांड हाऊस पर तोडफोड करने के लिए नाजद किसी भी आरोपी की गिरफ्तारी नही हो सकी हैं। जिससे स्पष्ट होता है कि प्रशानिक अमला कहीं न कही सत्ता के दबाव में खुद को महसूस कर रहा हैं।

  Similar Posts

Share it
Top