Saharanpur News| सहारनपुर: देश को बचाने के लिए आपसी सौहार्द की आवश्यकता: अताउर्रहमान

Saharanpur News| सहारनपुर: देश को बचाने के लिए आपसी सौहार्द की आवश्यकता: अताउर्रहमानदेश को बचाने के लिए आपसी सौहार्द की आवश्यकता: अताउर्रहमान

सहारनपुर : देश में बिगड़ते हालात को लेकर मुत्तहिदा मजलिसे अमल ने गहरी चिन्ता व्यक्त की। बिगडते माहौल को देखकर मुत्तहिदा मजलिसे अमल ने 22 अगस्त को एक जनसभा करने का निर्णय लिया है। रविवार को मुत्तहिदा मजलिसे अमल के अन्तर्गत घंटाघर स्थित होटल महारानी के सभागार में आयोजि प्रैस वार्ता में अध्यक्ष मौलान अताउर्रहमान वजदी ने देश में बिगड़ते हालात के मद्देनजर चिन्ता व्यक्त की। मौलाना ने पत्रकारों से वार्ता करते हुए बताया कि केन्द्र में सत्ता हासिल करने के बाद विशेष मानसिकता के लोग देश में जगह-जगह भारतीय नागरिकों को लड़वाने का षडयंत्र रच रहे। मौलाना ने बताया कि देश में जितना हक दूसरे धर्म के लोगों का है, उतना ही हक मुसलमानों का भी है। जबकि आजादी के समय न सिर्फ एक धर्म ने मिलकर देश को आजाद कराया था, बल्कि सभी धर्माे ने योगदान दिया था। मौलाना ने मज़हबी मामले में बोलने पर कहा कि किसी को भी यह अधिकार नही कि कोई किसी के धर्म में इंटरफेयर करे। सत्ता में बैठे कुछ लोग हिन्दु-मुस्लिमों को आपस में भिडवाने का काम कर रहे है। जिसे किसी सूरत में बर्दाश्त नही किया जाएगा। मौलाना ने कहा कि सुधार करने के लिए मुत्तहिदा मजलिसे अमल ने 22 अगस्त को एक जनसभा इस्लिमयां इण्टर कालेज में करने का निर्णय लिया है। जनसभा जिला स्तर पर आयोजित की जाएगी। जिसमें अल्पसंख्यकों, पिछडे वर्गाे के जिम्मेदार अपने विचारों व जानकारी से अवगत करायेंगे। इस दौरान रियाजुल नदवी, अब्दुल मालिक, मौलाना शाहिद मज़ाहिरी, मौलाना असद, मज़हर उमर खान, शेरशाह आज़म, मौलाना आरिफ रशीदी, मौलाना अजीजुल्लाह नदीवी, कारी सईद, ताहिर आदि शामिल रहे।

  Similar Posts

Share it
Top