चेन्नै: SC के फैसले के बाद शशिकला का वार-पन्नीरसेल्वम पार्टी से बर्खास्त

चेन्नै: SC के फैसले के बाद शशिकला का वार-पन्नीरसेल्वम पार्टी से बर्खास्तSC के फैसले के बाद शशिकला का वार-पन्नीरसेल्वम पार्टी से बर्खास्त

चेन्नै : आय से अधिक संपत्ति के मामले में सुप्रीम कोर्ट द्वारा मंगलवार को दोषी ठहराए जाने के बाद भी एआईएडीएमके प्रमुख वीके शशिकला ने हथियार नहीं डाले हैं। वह बगावत कर चुके कार्यकारी सीएम ओ पन्नीरसेल्वम के हाथ में किसी भी कीमत पर सत्ता नहीं जाने देना चाहतीं। इसके संकेत इसी बात से मिलते हैं कि कोर्ट के आदेश के बाद गिरफ्तारी की तलवार लटकने के बावजूद वह रिजॉर्ट में ठहरे विधायकों के साथ बैठक करने लगीं। इस मीटिंग में उन्होंने आगे की रणनीति तय की। इसके तुरंत बाद पन्नीरसेल्वम की पार्टी की प्राथमिक सदस्यता खत्म करने का ऐलान कर दिया गया। वहीं, ई पलनिसामी को विधायक दल का नेता चुन लिया गया। शशिकला ने सीएम समेत कुछ 20 नेताओं को बाहर का रास्ता दिखाया है। इनमें पन्नीरसेल्वम खेमे के विधायक भी शामिल हैं। जिन नेताओं के नाम सामने आए हैं, उनमें सी पोन्नयन, पीएच पंडियन, एनआर विश्वनाथन और आईपी मुनुसमी और मंत्री पंडियाराजन आदि प्रमुख हैं। वहीं, पन्नीरसेल्वम खेमे पर हमला करते हुए लोकसभा डिप्टी स्पीकर और पार्टी के वरिष्ठ नेता एम थंबीदुराई ने कहा कि पन्नीरसेल्वम सरकार नहीं बना सकते। वह एक गद्दार हैं। पलनिसमी को नया लीडर चुना गया है। विधायकों का बहुमत हमारे साथ है। पलनिसामी जयललिता के बेहद करीबी माने जाते हैं। वह पश्चिमी रीजन के बड़े एआईएडीएमके नेता माने जाते हैं। अब देखना दिलचस्प होगा कि बाकी विधायक भी उन्हें समर्थन देते हैं कि नहीं। मीटिंग में शशिकला के वफादार विधायकों के अलावा परिवार के सदस्य भी शामिल हुए। इनमें जयललिता के भतीजे दीपक जयकुमार भी शामिल हुए। माना जा रहा है कि शशिकला पहले उन्हें ही विधायक दल का नेता चुनकर सीएम कैंडिडेट बनाना चाहती थीं। सूत्रों के मुताबिक, पन्नीरसेल्वम खेमे को कमजोर करने के लिए शशिकला ने दीपक के जरिए इमोशनल कार्ड खेलने का फैसला किया था। हालांकि, दीपक ने प्रस्ताव को ठुकरा दिया, जिसके बाद पलानीसमी को विधायक दल का नेता चुना गया। पन्नीसेल्वम के विद्रोह के बाद से ही 100 से ज्यादा विधायक एक रिजॉर्ट में ठहरे हुए हैं। पन्नीरसेल्वम खेमे ने आरोप लगाया है कि उन्हें जबरन रोक कर रखा गया है। यहां एक आईजी के नेतृत्व में 350 से ज्यादा पुलिसवालों को तैनात किया गया है। फैसला आने के बाद भी यहां शशिकला समर्थकों की भीड़ जुटने लगी। हालांकि, फैसले के बाद भी कोई भी विधायक रिजॉर्ट से बाहर नहीं आया। वहीं, पन्नीसेल्वम के घर के बाहर भी समर्थकों की भीड़ जुटी है। मंगलवार को भी शशिकला खेमे के एक और विधायक के उनके खेमे में जाने की खबर आई। पन्नीरसेल्वम ने अपने निवास पर समर्थकों को संबोधित करते हुए उनका धन्यवाद किया। उन्होंने कहा कि अम्मा (जयललिता) का गुड गवर्नेंस आगे भी जारी रहेगा। उन्होंने कहा, एकजुट एआईएडीएमके के सभी विधायकों के समर्थन से अम्मा की सरकार आगे भी चलती रहेगी। यह हमारी जिम्मेदारी है कि शांति-व्यवस्था को कायम रखा जाए।

  Similar Posts

Share it
Top