चेन्नई: बेंगलुरु जेल में बंद शशिकला ने 'नम आंखों' से पलानीस्वामी को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेते देखा

चेन्नई: बेंगलुरु जेल में बंद शशिकला ने नम आंखों से पलानीस्वामी को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेते देखाबेंगलुरु जेल में बंद शशिकला ने ‘नम आंखों’ से पलानीस्वामी को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेते देखा

बेंगलुरु/चेन्नई : आय से अधिक संपत्ति मामले में सुप्रीम कोर्ट से दोषी करार दिए जाने के बाद अब बेंगलुरु जेल में सजा काट रहीं जयललिता ने गुरुवार को नम आंखों से अपने विश्वस्त इदापड्डी के पलानीसामी को तमिलनाडु के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेते देखा। जानकारी के अनुसार, शशिकला ने जेल परिसर के महिला सेल में टीवी सेट पर चेन्नई राजभवन में पलानीस्वामी और उनके कैबिनेट के शपथग्रहण समारोह को देखा। इस दौरान वह भावुक हो गईं। एक जेल अधिकारी ने नाम गुप्त रखने की शर्त पर न्यूज एजेंसी आईएएनएस से कहा कि शशिकला ने अपने रिश्तेदार एलावारासी और अन्य कैदियों के साथ टीवी पर इस समारोह को देखा। बता दें कि पलानीसामी को विधायकों की बैठक में अन्नाद्रमुक के विधायी दल का नेता चुना गया था। अन्नाद्रमुक की महासचिव वीके शशिकला को दोषी करार दिए जाने के बाद से पलानीस्वामी ने सरकार बनाने का दावा पेश किया था। उच्चतम न्यायालय के आदेश के कारण मुख्यमंत्री बनने की शशिकला की उम्मीदें धाराशाई हो गई थीं। शशिकला को पांच फरवरी को पार्टी के विधायी दल की नेता चुना गया था लेकिन ओ पनीरसेल्वम की बगावत उनकी राह का रोड़ा बन गई। गौर हो कि अन्नाद्रमुक की प्रमुख वीके शशिकला को बुधवार को जेल भेज दिया गया। उन्होंने यहां की एक अदालत में आत्मसमर्पण किया। उच्चतम न्यायालय ने आय से अधिक संपत्ति के दो दशक पुराने मामले में दोषी करार देते हुए उनकी सजा बहाल कर दी थी। इसके बाद शशिकला ने बेंगलुरु में विशेष अदालत के न्यायधीश अश्वतनारायण के समक्ष आत्मसमर्पण किया। शशिकला को कर्नाटक-तमिलनाडु सीमा पर होसुर से 28 किलोमीटर दूर पराप्पना अग्रहारा स्थित केन्द्रीय कारागार भेज दिया गया। शशिकला के रिश्तेदार वीएन सुधाकरन और एलावारसी ने भी आत्मसमर्पण कर दिया। उच्चतम न्यायालय ने इन दोनों की सजा भी बहाल कर दी थी। शशिकला उसी कार में आईं जिस कार का इस्तेमाल जयललिता किया करती थीं। उन्हें सख्त सुरक्षा के बीच कारागार ले जाया गया। वह तीन साल और करीब 11 महीने जेल में रहेंगी। निचली अदालत ने उन्हें चार साल की सजा सुनाई थी। इससे पहले सितंबर, 2014 में निचली अदालत द्वारा दोषी ठहराए जाने के बाद शशिकला 21 दिन की सजा परप्पना अग्रहरा जेल में काट चुकी हैं। शशिकला और एलावारसी इस जेल में महिलाओं के प्रखंड में एक छोटे प्रकोष्ठ में सजा काटेंगी। शशिकला को सामान्य भोजन मिलेगा न कि घर का बना भोजन, लेकिन वह डाक्टरों की सलाह के मुताबिक होगा।

  Similar Posts

Share it
Top