लखनऊ: तो क्या फिक्स था मुलायम-अखिलेश का विवाद? लीक ईमेल से उठे सवाल

2016-12-31 21:00:30.0

लखनऊ: तो क्या फिक्स था मुलायम-अखिलेश का विवाद? लीक ईमेल से उठे सवाल

लखनऊ : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के राजनीतिक रणनीतिकार प्रफेसर स्टीव जार्डिंग का एक कथित ईमेल सामने आने के बाद यह सवाल उठ खड़ा हुआ है कि क्या समाजवादी पार्टी में चल रहा झगड़ा फिक्स है? शुक्रवार को मुलायम द्वारा अखिलेश को पार्टी से बाहर किए जाने के कुछ ही देर बाद यह कथित मेल सामने आया, जो देखते ही देखते सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। दावा किया जा रहा है कि यह ईमेल 24 जुलाई को भेजा गया था। हालांकि इसकी प्रामाणिकता की अभी तक पुष्टि नहीं हो सकी है।इस कथित ईमेल के स्क्रीनशॉट को सोशल मीडिया पर बड़ी संख्या में शेयर किया गया। ईमेल में जो बातें लिखी गई हैं, उससे यह पता चलता है कि समाजवादी पार्टी में चल रहा झगड़ा फिक्स है। यह एक सोची समझी रणनीति है जिसके तहत चाचा (शिवपाल यादव) की कीमत पर अखिलेश की साफ छवि को और मजबूत बनाया जा रहा ताकि उन्हें भविष्य में पार्टी के नेता के रूप में प्रोजेक्ट किया जा सके।इस कथित ईमेल में आईडी नजर नहीं आ रही, बाईं ओर कोने में समाजवादी पार्टी का झंडा लगा हुआ है, यह बताते हुए कि यह एक आधिकारिक ईमेल है जो सीएम अखिलेश को भेजा गया है। हालांकि स्टीव एंड पार्टनर्स कंपनी के डिप्टी डायरेक्टर अद्वैत विक्रम सिंह ने ऐसा कोई ईमेल भेजे जाने की बात से साफ इनकार किया। उन्होंने कहा, यह ईमेल फर्जी है जो पहले से झगड़े में उलझी पार्टी को और मुसीबत में डालने के लिए रिलीज किया गया है। पहली बात यह कि स्टीव ने सीएम अखिलेश के लिए इसी साल अगस्त से काम करना शुरू किया है, जबकि यह ईमेल 24 जुलाई को लिखा गया लगता है। साथ ही, मैं और स्टीव एसपी में किसी से संपर्क में नहीं हैं। हम सोशल मीडिया में इस जानकारी को रिलीज करने वाले वाले शख्स को कानूनी नोटिस देंगे और इस तस्वीर का स्रोत बताने को कहेंगे।सोशल मीडिया पर यूं तो कई फर्जी तस्वीरें और स्क्रीनशॉट वायरल होते रहते हैं, हालांकि इंडिया टुडे के वरिष्ठ पत्रकार राहुल कंवल के ट्वीट के बाद ईमेल से जुड़ी अटकलों को और हवा मिल गई। उनका ट्वीट सोशल मीडिया पर कुछ ही देर में वायरल हो गया।कौन हैं स्टीव जॉर्डिंग?: स्टीव जार्डिंग हावर्ड में पॉलिटिकल सांइस और पब्लिक पॉलिसी के सीनियर प्रफेसर हैं। प्रफेसर जार्डिंग अमेरिका के सीनियर नेताओं हिलरी क्लिंटन और अल गोरे के लिए चुनाव प्रचार का काम संभालने के अलावा स्पेन के प्रधानमंत्री का चुनावी प्रचार संभाल चुके हैं। माना जा रहा है कि सीएम अखिलेश यादव की बगावत के पीछे जार्डिंग का ही दिमाग है। अखिलेश ने अगस्त में अपनी चुनावी कैंपेन में मदद देने के लिए उन्हें अमेरिका से बुलाया था। अब जार्डिंग अखिलेश के सबसे करीबियों में हैं। पिछले दिनों कांग्रेस के सीनियर नेताओं के साथ अखिलेश की बात भी उन्होंने ही चलवाई।

  Similar Posts

Share it
Top