नागौर से दो और संदिग्ध पकड़े पाकिस्तान के लिए जासूसी मामले में

नागौर से दो और संदिग्ध पकड़े पाकिस्तान के लिए जासूसी मामले में

जोधपुर : नागौर से दो और संदिग्ध पकड़े पाकिस्तान के लिए जासूसी मामले में सामरिक महत्व की सूचनाएं पाकिस्तान तक पहुंचाने में दिल्ली के पाक उच्चायोग में वीजा सेक्शन अधिकारी महमूद अख्तर की मदद करने के मामले की जांच कर रही दिल्ली पुलिस ने नागौर से दो और संदिग्धों को हिरासत में लिया है दिल्ली पुलिस इस मामले में रिमाण्ड पर चल रहे मौलाना आजाद व सुभाष जांगिड के साथ नागौर पहुंची थी। जासूसी मामले में रिमाण्ड पर चल रहे आरोपी जोधपुर के शोएब हुसैन को पासपोर्ट तथा वीजा बनाने का कार्य विरासत में मिला है। शोएब के पिता मोहम्मद हुसैन व दादा जहूर भी यही काम करते थे।सूत्रों के अनुसार खाण्डा फलसा में कुम्हारिया कुआं के पास जटियों का बास निवासी सोहेब उर्फ शोएब हुसैन के पिता मोहम्मद हुसैन और दादा जहूर भी पासपोर्ट बनाने का कार्य करते थे। जहूर के बाद मोहम्मद हुसैन यह कार्य करने लग गए थे। उनके बाद शोएब ने यह कार्य संभाल लिया था। तीनों ही दिल्ली स्थित पाक उच्चायोग आते-जाते थे। साथ ही पाकिस्तान में ससुराल होने से मोहम्मद हुसैन पाक भी कई बार जा चुके हैं। जासूसी के संदेह में हत्थे चढऩे वाला मौलाना रमजान मूलत: बाड़मेर जिले में रामसर क्षेत्र का रहने वाला है। वह पिछले दस-पन्द्रह साल से नागौर में ही रह रहा है।पाकिस्तान के लिए जासूसी करने के आरोप में दिल्ली क्राइम ब्रांच द्वारा गिरफ्तार किए गए सुभाष जांगीड़ को क्रिकेट खेलने का शौक तो था ही, साथ ही वह क्रिकेट सट्टे के कारोबार में भी लिप्त था। सुभाष रोज सुबह स्टेडियम व मिर्धा कॉलेज मैदान में क्रिकेट खेलता था। उसके साथ क्रिकेट खेलने वाले कुछ खिलाडि़यों ने बताया कि वह क्रिकेट खेलने के अलावा क्रिकेट का सट्टा भी लगाता था। एक तरह से उसे इसका चस्का था। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार सुभाष एक क्रिकेट मैच में चार से पांच लाख रुपए के सौदे करता था और कुछ सौदों को आगे बेच देता था। वह इस धंधे में भी सौदों को आगे बेचकर कमिशन खाने की फिराक में रहता था। एक बात यह भी सामने आई है कि वह एक मैच में पांच लाख रुपए के सौदे करने की हिम्मत रखता था। जबकि उसके सारे धंधे पूर्व में चौपट हो गए थे और एक दुकान महज दिखावे के लिए खोली रखी थी।

  Similar Posts

Share it
Top