दिल्ली और अंबाला रूट पर बढ़ेगी ट्रेनों की रफ्तार

2017-02-03 19:35:43.0

दिल्ली और अंबाला रूट पर बढ़ेगी ट्रेनों की रफ्तारदिल्ली और अंबाला रूट पर बढ़ेगी ट्रेनों की रफ्तार

नई दिल्ली : दिल्ली-अंबाला रेलखंड पर ट्रेनों की रफ्तार में आने वाली बाधा को दूर करने पर इस बजट में ध्यान दिया गया है। इसके लिए जिन स्थानों पर ट्रेनों की रफ्तार प्रतिबंधित हैं, उसे दूर करने के लिए काम किया जाएगा। इससे इस रेलखंड पर सेमी हाई स्पीड ट्रेन के परिचालन का सपना साकार होने की उम्मीद भी जगी है। देश के जिन नौ मार्गो पर सेमी हाई स्पीड ट्रेन चलाने की योजना है, उसमें दिल्ली-अंबाला-चंडीगढ़-अमृतसर, दिल्ली-कानपुर, दिल्ली-नागपुर-चेन्नई रूट शामिल है। दिल्ली-चंडीगढ़ रेलखंड पर 200 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से ट्रेन चलाने के लिए फ्रांस के सहयोग से अध्ययन भी किया जा रहा है। अध्ययन रिपोर्ट के आधार पर ही रेलवे ट्रैक, रेलवे पुल व सिग्नल सिस्टम में जरूरी सुधार किया जाएगा। अधिकारियों ने कहा कि तीन चरण में होने वाले अध्ययन का दो चरण पिछले वर्ष दिसंबर में पूरा कर लिया गया है। अंतिम चरण का काम भी इस वर्ष जून तक पूरा हो जाएगा। इस पर कुल 19 करोड़ रुपये खर्च किए जा रहे हैं। अध्ययन रिपोर्ट के बाद इस ट्रैक पर बड़े बदलाव के निर्णय लिए जाएंगे लेकिन बुनियादी काम जल्द शुरू कर दिया जाएगा। इसके लिए इस बार के रेल बजट में 38.4 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है जिसमें जरूरत के अनुसार वृद्धि की जाएगी। इस रेलखंड पर चरणबद्ध तरीके से विभिन्न स्टेशनों के बीच स्वचालित सिग्नल व अन्य जरूरी काम किए जाएंगे। अभी इस रेल मार्ग पर सबसे तेज गति से चलने वाली ट्रेन शताब्दी एक्सप्रेस है जो 110 किलोमीटर प्रति घंटे के रफ्तार से चलती है। हालांकि, दिल्ली से अंबाला रेलखंड 130 किलोमीटर की रफ्तार के लिए तैयार है। दिल्ली से चंडीगढ़ के बीच करीब 600 पुल और 50 मोड़ हैं जहां ट्रेन की रफ्तार कम हो जाती है। तेज रफ्तार ट्रेन चलाने के लिए इस समस्या को दूर करनी होगी। इस व्यस्त रेल मार्ग पर राजधानी और शताब्दी सहित रोजाना लगभग एक सौ ट्रेनें गुजरती हैं। इसलिए ट्रेनों का परिचालन बाधित किए बगैर रेल लाइन में जरूरी सुधार करना रेल प्रशासन के सामने बड़ी चुनौती है।

  Similar Posts

Share it
Top