नोटबंदी को लेकर संसद में लगातार विपक्ष का विरोध अभी थमा भी नहीं था कि अब बीजेपी सरकार अपने ही गृहमंत्री किरण रिजिजू पर घोटाले के आरोपों को लेकर घिरी

2016-12-14 21:15:58.0

नोटबंदी को लेकर संसद में लगातार विपक्ष का विरोध अभी थमा भी नहीं था कि अब बीजेपी सरकार अपने ही गृहमंत्री किरण रिजिजू पर घोटाले के आरोपों को लेकर घिरी

नई दिल्ली : नोटबंदी को लेकर संसद में लगातार विपक्ष का विरोध अभी थमा भी नहीं था कि अब बीजेपी सरकार अपने ही गृहमंत्री किरण रिजिजू पर घोटाले के आरोपों को लेकर घिर गई है। बुधवार को संसद की कार्यवाही हंगामे के साथ शुरू हुई। लोकसभा की कार्यवाही शुरू होते ही विपक्ष ने केंद्रीय गृह राज्य मंत्री किरण रिजिजू पर अरूणाचल पावर प्रोजेक्ट में भ्रष्टाचार के कथित आरोप को लेकर हंगामा शुरू कर दिया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मौजूदगी में हो रहे भारी हंगामे के बाद सदन की कार्यवाही को 12 बजे तक स्थगित कर दिया गया। जहां प्रधानमंत्री के सदन को संबोधित करने की संभावना जताई जा रही है, वहीं संसद में जाने से पहले कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने भी कहा कि वह बोलने आए हैं, पर देखना होगा कि सरकार उन्हें बोलने देगी या नहीं। केंद्रीय मंत्री किरण रिजिजू पर भ्रष्टाचार के आरोप को लेकर मंगलवार को जब कांग्रेस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की थी, तभी से यह कयास लगाए जा रहे थे कि पार्टी इस मसले को संसद में उठाएगी। बुधवार सुबह सदन में जाने से पहले 10.30 बजे हुई कांग्रेस की बैठक में यह तय किया गया कि इस मुद्दे पर पार्टी सरकार को घेरेगी। वहीं सरकार की ओर से केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि अगर कांग्रेस इस मुद्दे को सदन में उठाएगी तो उसे भी काफी शर्मिंदगी और सच का सामना करना पड़ेगा। माना जा रहा है कि सरकार रिजिजू की मुद्दे की काट के तौर पर अगस्ता वेस्टलैंड के मुद्दे पर कांग्रेस को घेर सकती है। सरकार ने साफ कह दिया कि यह कोई मामला है ही नहीं, कांग्रेस बेवजह हंगामा कर रही है। बता दें कि बीजेपी और कांग्रेस ने संसद के अपने दोनों सदनों के सदस्यों को शीतकालीन सत्र की बाकी अवधि में संसद में मौजूद रहने को कहा है। केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी सत्र के आखिरी तीन दिन सदन में मौजूद रहेंगे। बताया जा रहा है कि वह संसद में नोटबंदी पर बयान भी दे सकते हैं। इस मुद्दे पर चर्चा के लिए विपक्ष शुरू से ही प्रधानमंत्री की सदन में मौजूदगी की मांग करता रहा था। वेंकैया नायडू ने कहा कि विपक्ष चाहता है कि प्रधानमंत्री सदन में आएं और उनकी गालियां सुनें। ऐसा निर्देश देने वाले वह कौन हैं। सरकार नोटबंदी पर चर्चा के लिए तैयार है। लेकिन विपक्ष ही अपनी बात से मुकर रहा है।

  Similar Posts

Share it
Top