है रामायण की ये कथनी और ये गीता का सार : पढ़े पूरी कविता

है रामायण की ये कथनी और ये गीता का सार : पढ़े पूरी कविता

है रामायण की ये कथनी और ये गीता का सार
हिंदी हमारी भाषा है और हमकों हिंदी से है प्यार
देख अपने वीर पुत्रों की कुर्बानी माता भरे हुंकार
सारा विश्व एक दिन कहेगा हमकों हिंदी से है प्यार
मस्जिद में अल्लाह तो जेल में भी है कृष्णावतार
गरीब अमीर सब कौम वाले कहेंगे हिंदी से है प्यार
हमारे कंधो पर है अपने भारत की सुरक्षा का भार
जाट गुर्जर मराठी बंगाली भी कहते हिंदी से है प्यार
विक्टोरिया पर चढ़कर देखो सबको इंटरनेट बुखार
दिल्ली से मम्बई तक एक ही शोर हिंदी से है प्यार
मुकर्रर हम पढ़ेंगे महफिलों में अशोक यही अशआर
बिना पांबन्दी हर जलसे में यही बात हिंदी से है प्यार
क़ौम को ख़तरे में डाले बिना उतार देती सबका बुखार
सँस्कृत माँ की बेटी से हर हिंदस्तानी को हिंदी से है प्यार
तौबा तौबा भारत माँ अब मत भरों तुम गुस्से में हुँकार
हर देशवासी एक स्वर में ही कह रहा हिंदी से है प्यार
अशोक सपड़ा की कलम से हिंदी भाषा को समर्पित.........

  Similar Posts

Share it
Top